header-image-about-page
about-page-header

Welcome note

Author Geet Chaturvedi

अपने बारे में कुछ लिखना मेरे लिए बेहद मुश्किल काम है। जब कभी ऐसा अवसर आता है, मैं देर तक कंप्यूटर की ख़ाली स्क्रीन को घूरता रहता हूँ। तब समझ नहीं आता, क्या कहूँ, कहाँ से शुरू करूँ? ख़ुद के बारे में कहने के लिए क्या सच में मेरे पास कुछ है? और जो थोड़ा-सा कुछ है, क्या उसे कहना ज़रूरी है?

यह सब सोचते-सोचते अक्सर, बिना कुछ लिखे ही, मैं थक जाता हूँ और कंप्यूटर बंद करके अपने किसी प्रिय लेखक की किताब में डूब जाता हूँ।

मेरी ज़िंदगी दूसरों से बनी है, इसमें ख़ुद मेरा होना बहुत कम है। इसीलिए मैंने अपनी एक किताब का शीर्षक रखा था – न्यूनतम मैं!

फिर भी, मैं उन चीज़ों का ज़िक्र करूँगा, जिनसे मैं प्रेम करता हूँ - अपने परिवार से, दोस्तों से, और हाँ, अपने पाठकों से भी! मुझे पुस्तकों और पौधों के बीच रहना अच्छा लगता है। जब मैं कुछ नहीं कर रहा होता, अपने पौधों की गुड़ाई, निराई, सिंचाई करता हूँ। उन्हें बड़ा होते देखता हूँ। इन पौधों और फूलों के कारण मेरे यहाँ भाँति-भाँति की चिड़ियाँ आती हैं। मंत्रमुग्ध-सा उन्हें देखता और सुनता हूँ।

ज़्यादातर लोग छोटे शहरों से बड़े शहरों की ओर जाते हैं, लेकिन मैंने अपनी यात्रा उल्टे चलकर तय की है। मैं मुंबई में जन्मा, पढ़ाई-लिखाई, परवरिश, प्यार-मुहब्बत, शादी सबकुछ वहीं की और 23 की उम्र में रोज़गार के कारण मध्य और उत्तर भारत के छोटे शहरों की ओर चला आया। ऐसे कहूँ कि मैं समंदर के शहर में जन्मा और नदियों के शहरों में पहुँच गया। दसेक जगह रहने के बाद कुछ बरसों से अब भोपाल में हूँ।

मेरी कई किताबें प्रकाशित हैं, जिनका विवरण नीचे औपचारिक बायोडेटा में मिल जाएगा, लेकिन अपनी वेबसाइट के इस दोस्ताना वेलकम नोट में यह ज़रूर कहना चाहूँगा कि लिखना मेरे लिए प्राणवायु की तरह है। मेरे प्रिय लेखकों और प्रिय किताबों ने मुझे कई बार उबारा है।

मेरे पास सपने हैं, लेकिन फूहड़ महत्वाकांक्षाएँ नहीं हैं। मुझे ज़्यादा कुछ नहीं चाहिए। मैं चाहता हूँ कि उम्र पूरी होने तक, मैं चार सुन्दर पंक्तियाँ लिख लूँ। जब मैं मरूँगा, वही चार पंक्तियाँ मुझे कंधा देंगी।

चलते-चलते यह कि मुझसे संबंधित लगभग सभी महत्वपूर्ण जानकारियाँ इस वेबसाइट पर मिल जाएँगी। इससे जुड़ें, ब्लॉग और न्यूज़लेटर सब्स्क्राइब कर लें, और हमेशा की तरह अपने ईमेल और मैसेजेस मुझे भेजते रहें।

स्वस्थ, सुरक्षित और सानंद रहें।

नमस्ते!

गीत

Media Corner

नीचे दी गई जानकारियाँ मीडियाकर्मियों तथा जिज्ञासुओं के लिए हैं। वे इन्हें साक्षात्कार, लेख, सोशल मीडिया पोस्ट, ब्लॉग पोस्ट, पुस्तक समीक्षा/ पुस्तक परिचय आदि के लिए कर सकते हैं। यदि और अधिक जानकारी चाहिए, तो कॉन्टैक्ट फॉर्म का इस्तेमाल करके पूछा जा सकता है।

लेखक की हाई-रिज़ोल्यून तस्वीरें वेबसाइट के गैलरी सेक्शन में उपलब्ध हैं। यहाँ से डाउनलोड करें।
किसी तरह की बिज़नेस इन्क्वायरी या अपॉइन्टमेंट के लिए अपराजिता अरोड़ा को ईमेल लिखें। उनका ईमेल पता है : [email protected]

Formal Bio

Born on 27th November 1977 in Mumbai, Geet Chaturvedi is one of the most widely read contemporary literary authors in Hindi. He has published eleven books including two collections of novellas and three collections of poems. His books ‘Nyoonatam Main’ and ‘Khushiyon Ke Guptchar’ are included in the bestselling lists even though they are hardcore literary poems. His celebrated essays on literature, cinema and music are collected in ‘Table Lamp’ and ‘Adhuri Cheezon Ka Devta’. He is also a lyricist, screenwriter, critic and editor.

कविता के लिए गीत को भारत भूषण अग्रवाल पुरस्कार, स्पंदन कृति सम्मान, वाग्धारा नवरत्न सम्मान तथा गल्प के लिए कृष्णप्रताप कथा सम्मान, शैलेश मटियानी कथा सम्मान, कृष्ण बलदेव वैद फेलोशिप और सैयद हैदर रज़ा फेलोशिप मिल चुके हैं। ‘इंडियन एक्सप्रेस’ सहित कई प्रकाशन संस्थानों ने उन्हें भारतीय भाषाओं के सर्वश्रेष्ठ लेखकों में शुमार किया है।

गीत चतुर्वेदी की रचनाएँ देश-दुनिया की 22 भाषाओं में अनूदित हो चुकी हैं। उनकी कविताओं के अंग्रेज़ी अनुवाद का संग्रह ‘द मेमरी ऑफ़ नाउ’ 2019  में अमेरिका से प्रकाशित हुआ। उनके नॉवेला ‘सिमसिम’ के अंग्रेज़ी अनुवाद को (अनुवादक अनिता गोपालन) ‘पेन अमेरिका’ ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिष्ठित ‘पेन-हैम ट्रांसलेशन ग्रांट’ अवार्ड किया है। गीत इन दिनों भोपाल रहते हैं।

Fast Facts
  • गीत की पहली रचना बच्चों के लिए लिखी गई एक कहानी थी, जोकि मुंबई से प्रकाशित बालपत्रिका ‘टिंकल’ में छपी थी। तब गीत की उम्र 13 वर्ष थी।

  • गीत की पहली साहित्यिक कविता जनसत्ता, मुंबई में प्रकाशित हुई थी। तब उनकी उम्र 17 वर्ष थी।

  • गीत ने 20 साल की उम्र से अनुवाद-कर्म शुरू किया। उनका पहला साहित्यिक अनुवाद स्पैनिश भाषा के महान कवि पाब्लो नेरूदा के दुर्लभ लेखों का था, हालाँकि उन्होंने ये अनुवाद अंग्रेज़ी के ज़रिए किए थे। ये अनुवाद एक सीरीज़ की तरह प्रसिद्ध साहित्यिक पत्रिका ‘पहल’ के तीन अंकों में छपे थे।

  • गीत का पहला कविता संग्रह 2010 में छपा- ‘आलाप में गिरह’ (राजकमल प्रकाशन)

  • उसी बरस लंबी कहानियों की दो किताबें ‘सावंत आण्टी की लड़कियाँ’ और ‘पिंक स्लिप डैडी’ प्रकाशित हुए। (दोनों राजकमल प्रकाशन)

  • 2012 में गीत ने अपने मैग्नम ओपस ‘रानीखेत एक्सप्रेस’ की घोषणा की, विभिन्न पत्रिकाओं में इस उपन्यास के आठ अंश प्रकाशित हुए। इंडिया टुडे सहित कई पत्रिकाओं ने इसे हिन्दी के बहुप्रतीक्षित उपन्यासों की सूची में रखा। गीत अभी भी इस उपन्यास पर काम कर रहे हैं।

  • 2017 में गीत का दूसरा कविता संग्रह - ‘न्यूनतम मैं’ (राजकमल प्रकाशन)

  • 2018 में निबंधों की पहली किताब – ‘टेबल लैम्प’ (राजकमल प्रकाशन)

  • 2019 में तीसरा कविता संग्रह - ‘ख़ुशियों के गुप्तचर’ (रुख़ पब्लिकेशन्स)

  • 2019 में अमेरिका में गीत की पहली किताब छपी। अंग्रेज़ी अनुवाद में उनकी कविताओं का संग्रह – ‘द मेमरी ऑफ़ नाउ’, अनुवादक : अनिता गोपालन (एनॉमलस प्रेस)

  • 2020 में गीत ने नवभारत टाइम्स के लिए मायथॉलजी पर आधारित उपन्यास ‘रुद्र’ का धारावाहिक लेखन किया।

  • 2021 में निबंधों की दूसरी किताब – ‘अधूरी चीज़ों का देवता’ (रुख़ पब्लिकेशन्स)
Highlights
  • गीत को उनके जीवन का पहला पुरस्कार 2007 में मिला, जोकि प्रतिष्ठित भारत भूषण अग्रवाल पुरस्कार था।

  • इंडियन एक्सप्रेस ने 2011 में उन्हें देश के सर्वश्रेष्ठ दस लेखकों की सूची में शामिल किया।

  • 2015 में गीत को ‘पिंक स्लिप डैडी’ के लिए कृष्ण प्रताप कथा सम्मान दिया गया।

  • 2016 में गीत के नॉवेला ‘सिमसिम’ के अंग्रेज़ी अनुवाद पर उनकी अनुवादक अनिता गोपालन को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त पेन-हैम ट्रांसलेशन ग्रांट अवार्ड किया गया।

  • 2017 में गीत का दूसरा कविता संग्रह ‘न्यूनतम मैं’ लंबे समय तक के लिए दैनिक जागरण बेस्टसेलर सूची में बना रहा।

  • 2018 में नवभारत टाइम्स, दैनिक जागरण, फेमिना पत्रिका सहित कई प्रकाशन संस्थानों ने ‘न्यूनतम मैं’ को वर्ष की सर्वश्रेष्ठ पुस्तकों में शामिल किया।

  • 2018 में गीत को ‘पिंक स्लिप डैडी’ के लिए शैलेश मटियानी कथा सम्मान दिया गया।

  • 2019 में अमेरिका में प्रकाशन के तीन महीने में ही गीत का कविता संग्रह ‘द मेमरी ऑफ नाउ’ स्मॉल पब्लिशर्स असोसिएशन की बेस्टसेलिंग सूची में शामिल हुआ।

  • 2019 में गीत को फिक्शन-लेखन के लिए प्रतिष्ठित कृष्ण बलदैव वैद फेलोशिप दी गई।

  • 2019 में गीत को उपन्यास-लेखन के लिए प्रतिष्ठित सैयद हैदर रज़ा फेलोशिप दी गई।

  • 2020 में गीत को कविता के लिए वाग्धारा नवरत्न सम्मान दिया गया।

  • 2020 में ‘न्यूनतम मैं’ कविता संग्रह के लिए गीत को प्रतिष्ठित स्पंदन कृति सम्मान दिया गया।

  • 2018 में नवभारत टाइम्स, दैनिक जागरण, फेमिना पत्रिका सहित कई प्रकाशन संस्थानों ने ‘न्यूनतम मैं’ को वर्ष की सर्वश्रेष्ठ पुस्तकों में शामिल किया।

  • छह अमेरिकी विश्वविद्यालयों ने अपने विभिन्न प्रकाशनों में गीत की रचनाओं को स्थान दिया है। अंग्रेज़ी में ये सारे अनुवाद अनिता गोपालन द्वारा किए गए हैं।

  • गीत की रचनाओं का अनुवाद देश-दुनिया की 22 भाषाओं में हो चुका है।

Selected Praise

भारत के दस सर्वश्रेष्ठ युवा लेखकों में से एक।
- इंडियन एक्सप्रेस
हिन्दी के वर्तमान कवियों में गीत चतुर्वेदी का स्थान शिखर पर है।
- द लल्लनटॉप
21वीं सदी के पहले दशक के मेरे प्रिय कवि व कथाकार हैं गीत चतुर्वेदी।
- नामवर सिंह, महान आलोचक
गीत के पास बहुत ताज़ा और चमकीली भाषा है। वह विचारवान और स्वप्नदर्शी हैं।
- ज्ञानरंजन, कथाकार व संपादक, पहल
गीत चतुर्वेदी ने अपने गल्प व कविताओं में अवाँ-गार्द भाव दिखाया है। उनका अध्ययन बेहद विस्तृत है जो कि उनकी पीढ़ी के लिए एक दुर्लभ बात है। यह पढ़ाई उनकी रचनाओं में अनायास और सहज रूप से गुँथी दिखती है। उनकी भाषा व शैली अभिनव है। उनके पास सुलझी हुई दृष्टि है जिसमें क्लीशे नहीं और जो कि वर्तमान विचारधारात्मक खेमों के शिकंजे में भी फँसी हुई नहीं है।
- अशोक वाजपेयी, कवि-आलोचक
गीत चतुर्वेदी की काव्य-निर्मिति और शिल्प की एक सिफ़त यह भी है कि वह यथार्थ और कल्पित, ठोस और अमूर्त, संगत से असंगत, रोज़मर्रा से उदात्त की बहुआयामी यात्रा एक ही कविता में उपलब्ध कर लेते हैं। इतिहास से गुज़रने का उनका तरीक़ा कुछ-कुछ चार्ली चैपलिन-सा है और कुछ काल-यात्री (टाइम- ट्रैवलर) सरीख़ा…। भारतीय समाज के लुच्चाकरण और अमानवीयता पर जो बहुत कम हिंदी कवि नज़र रखे हुए हैं, गीत उनमें भी एक निर्भीक यथार्थवादी हैं।
- विष्णु खरे, कवि-आलोचक
किसी भी अच्छे कवि की तरह, गीत चतुर्वेदी के पास तीसरी आँख है, जिसकी मदद से वह सिनेमाई तकनीकों का प्रयोग करते हैं और ऐसे दृश्य रचते हैं जो अद्भुत, मासूम और खिलन्दड़ हैं। उनके संवेदना- बोध और शैली की सूक्ष्मता के कारण उनकी कविताओं को पढ़ने में अत्यन्त आनन्द आता है।
- दुन्या मिख़ाइल, अरबी भाषा की इराक़ी कवि
भारतीय साहित्य की संस्कृत-पालि परंपरा, योरप के उत्तर-आधुनिक साहित्य व विश्व-कविता के अध्ययन के कारण गीत चतुर्वेदी की कविताएँ स्वाभाविक रूप से इंटर-टेक्स्चुअल हैं।
- अरुंधति सुब्रमण्यम, भारतीय अंग्रेज़ी भाषी कवि
गीत चतुर्वेदी एक विलक्षण कवि हैं।
- सुदीप सेन, भारतीय अंग्रेज़ी भाषी कवि
गीत चतुर्वेदी की कविताएँ सम्मोहक हैं। उनमें पारभासी छवियाँ व विलक्षण बिम्ब हैं। भाषा के साथ एक विशिष्ट रति-रम्यता है जो पाठक को अतींद्रिय आनन्द का अनुभव कराती है। असम्बद्ध काव्य- संरचना के कारण हर पंक्ति या अनुच्छेद अपने आप में एक अलग दुनिया है, हर पंक्ति एक नई शुरुआत, एक नया अन्त है। गीत चतुर्वेदी एक दुर्लभ कवि हैं, हृदय के इतिहासकार, आत्मा के पुरातत्ववेत्ता।
- अनिता गोपालन, पेन-हैम पुरस्कार प्राप्त अनुवादक
गीत चतुर्वेदी समकालीन रचनाशीलता के विरल उदाहरण हैं।
- अखिलेश, कथाकार और संपादक, तद्भव
गीत चतुर्वेदी ऐंद्रिक सजगता और कल्पनाशीलता से अपनी अभिव्यक्तियों को, उनके पुराने ठिकानों से एक क़दम आगे ले जाकर, एक ताज़गी का अहसास देते हैं।
- नरेश सक्सेना, कवि
hi_INहिन्दी