World Literature

Recent Posts

आद्रियाना लिस्बोआ की कविता : आत्मा को ऐसे धोएं

आत्मा को अपने हाथों से धोना चाहिए.इसलिए नहीं कि वह बहुत नाजुक होती हैऔर रंग छोड़ती है.इसके उलट, वह बेहद मजबूत कपड़े से बनी होती हैऔर उसे साफ करने का एक ही तरीका है किउसे हाथों से धोया जाए. एक घरेलू साबुन लें- अच्छा होगा कि सबसे सस्ता वाला.ब्लीच, फैब्रिक

Read More »

The Funeral : a short story in Two Lines

My short fiction “Bade Papa ki Antyeshti” has been published in Anita Gopalan’s fine English translation as “The Funeral” in Two Lines, a prestigious American journal. The translation was called “a masterful translation”.  I feel proud that Two lines have spotlighted this story to begin their Fall season. The story would sound familiar to

Read More »

इल्या कामिन्स्की की कविता

और जब वे दूसरों के घरों पर बम बरसा रहे थे,हमने विरोध तो किया, लेकिन पर्याप्त नहीं.हमने उनका विरोध किया, लेकिन पर्याप्त नहीं.मैं अपने बिस्तर में था,मेरे बिस्तर के इर्द-गिर्द अमेरिका भहराकर गिर रहा था :अदृश्य मकान-दर-अदृश्य मकान-दर-अदृश्य मकान.मैंने घर के बाहर कुर्सी रखी और सूरज को देखता रहा.तबाही मचानेवाली

Read More »
Anita Gopalan

The Amphibian in the Columbia Journal

A beautiful and thoughtful translation by Anita Gopalan of a section from my long poem ‘The Amphibian’ is in the Columbia Journal, housed at Columbia University. It is wonderful that the journal has featured Anita’s photo on the page—a respect and recognition for the translator. They also said they loved how

Read More »
Amos Oz

अमोस ओज़ : बड़ा होकर एक किताब बनूँगा

हमारे पास सिर्फ़ एक ही चीज़ इफ़रात में थी, और वह थी- किताबें। हर जगह किताबें। दीवारों पर। दरीचों पर। गलियारे में। रसोई में। घर में घुसते ही किताबें। हर खिड़की पर रखी हुई किताबें। घर के हर कोने में भरी हुईं हज़ारों किताबें। मेरी सोच है, लोग आएँगे और

Read More »
Jaime Sabines translated by Geet Chaturvedi

ख़ाइमे साबिनेस (Jaime Sabines) की कविताएँ

ख़ाइमे साबिनेस (Jaime Sabines,1926-1999) मेक्सिको के कवि थे। नोबेल पुरस्‍कार विजेता कवि ओक्‍तावियो पास (Octavio Paz) उन्‍हें ‘स्‍पैनिश भाषा के सर्वश्रेष्‍ठ समकालीन कवियों में से एक’ मानते थे। स्‍पैनिश में उनकी कविता की दस किताबें प्रकाशित थीं। उन्‍होंने गद्य कविता में अधिक काम किया, लेकिन यह भी तथ्‍य है कि

Read More »
Geet Chaturvedi Thumbnail Adam Zagajewski

एडम ज़गाएव्स्की : युवा कवियो, सब कुछ पढ़ियो

यह कहते मुझे कम से कम, एक ख़तरा तो महसूस हो ही रहा है। पढ़ने के तरीक़ों पर  बात करते समय, या एक अच्छे पाठक की तस्वीर खींचते समय, कहीं मैं अनजाने ही यह अहसास न दे बैठूँ कि मैं ख़ुद एक परफ़ेक्ट पाठक हूँ। इस बात में  कोई सचाई

Read More »
pal aster

पॉल ऑस्टर : मकान नहीं छोड़ा, देह छोड़ दी

तीन हफ्ते पहले मुझे अपने पिता की मृत्यु की ख़बर मिली। पिता के पास कुछ नहीं था। बीवी नहीं थी, कोई ऐसा परिवार नहीं था जो सिर्फ़ उन पर निर्भर हो। यानी ऐसा कुछ नहीं था, जो सीधे तौर पर उनकी अनुपस्थिति से प्रभावित हो। उनके न रहने का दुख

Read More »
GC Blog thumbnail World Lit- Shafak

एलिफ़ शफ़क : सामान कम होगा, तो थकान कम होगी

सबकुछ व्यवस्थित हो, और एक ख़ास क़िस्म का मौन भी हो, यह मुझे परेशान करने के लिए काफ़ी है। बरसों तक एक ही मकान में रहना, एक ही पड़ोसी को रोज़ देखना, रोज़ एक ही गली में चलना, रोज़ एक ही शहर में घूमना यह सब मेरे बस का नहीं

Read More »
GC Blog thumbnail World Lit- Marquez

गार्सीया मारकेस : साहित्य से प्यार करने वाला चोर

वे मेरे लेखन के शुरुआती दिन थे। उस समय मैं जो तरीक़ा अपनाता था, आज के तरीक़े से एकदम अलग था। मैं अख़बार में काम करता था। दिन भर लिखता था। रात के कुछ घंटे बाहर दोस्तों के साथ रहता। वापस दफ़्तर आकर सो जाता था। सुबह उठकर फिर काम

Read More »

Popular Categories

en_USEnglish